Latest News:
केंद्रीय सशस्त्र बलाें में 84 हजार पद खाली; भर्ती जल्द  |  100 यूनिट का 100 रूपये और 100 यूनिट से कम पर वास्तविक बिल देय |  MP MIDDLE SCHOOL TETGUESS (10set) PAPER PDF FILE JUST 60/- |  स्टाफ नर्सों को नौकरी ज्वाईंन करने का एक और मौका |  मध्य प्रदेश उच्च माध्यमिक शिक्षक पात्रता परीक्षा 2018 1 फरवरी 2019 से प्रारंभ |  शिक्षक भर्ती परीक्षा को लेकर संशय बरकरार |  मुख्यमंत्री फसल ऋण माफी योजना में 31 मार्च 2018 तक के ऋण माफ होंगे  |  मध्यप्रदेश पुलिस में सब इंस्पेक्टर संवर्ग 150 पदों की भर्ती के लिए वित्त विभाग भी मंजूरी दे चुका है |  नये स्वरूप में होगा अब वन्दे-मातरम् गायन |  श्रमिकों के बच्चों के लिए शिक्षा हेतु ऑनलाईन आवेदन की अंतिम तिथि 31 अक्टूबर  | 

Latest News Details

पैसों के अभाव में कोई बच्चा शिक्षा से वंचित नहीं रहेगा : मुख्यमंत्री श्री चौहान

पैसों के अभाव में कोई बच्चा शिक्षा से वंचित नहीं रहेगा : मुख्यमंत्री श्री चौहान

Post Name : शिक्षा

Short Details of Notification

पैसों के अभाव में कोई बच्चा शिक्षा से वंचित नहीं रहेगा : मुख्यमंत्री श्री चौहान 

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में पैसों के अभाव में कोई बच्चा शिक्षा से वंचित नही रहेगा। उन्होंने कहा कि प्रतिभाशाली विद्यार्थियों की फीस सरकार देगी। श्री चौहान ने आज यहाँ एक निजी चैनल के कार्यक्रम में अपने संबोधन में कहा कि शिक्षा की पहुँच को आसान बनाने के लिये सरकार ने हर संभव उपाय किये हैं। बेटियों को नि:शुल्क साइकिल देने का कदम हो या मेधावी विद्यार्थियों को लेपटॉप देने या उच्च शिक्षा के लिये उनकी फीस भरने का प्रावधान हो। शिक्षा में नवाचारी प्रयोगों के माध्यम से शिक्षा को रोजगारोन्मुखी बनाने के लिये भी ठोस कदम उठाये हैं।

श्री चौहान ने कहा कि प्रत्येक शाला में शौचालय बनाने के प्रयास किये जा रहे हैं। उन्होंने डेढ़ दशक पूर्व की शिक्षा व्यवस्था की चर्चा करते हुये कहा कि पहले कर्मीकल्चर का बोलबाला था। शिक्षाकर्मी और गुरूजीयों के भरोसे शिक्षा चल रही थी। इसलिये शिक्षा में गुणवत्ता भी निम्न स्तर की थी। आज अध्यापकों को सम्मान पूर्वक वेतन मिल रहा है और शैक्षणिक अधोसरंचना भी सुधरी है। श्री चौहान ने कहा कि अब विद्यार्थियों को सिर्फ पढ़ाई पर ध्यान देने की आवश्यकता है। पैसों की व्यवस्था सरकार कर रही है।

श्री चौहान ने बताया कि श्रमिकों के बच्चों के लिये चार श्रमोदय विद्यालय खुल रहे हैं। उन्होंने कहा कि युवाओं के सपनों को मरने नहीं देंगे। उन्होंने युवाओं के लिये स्वरोजगार स्थापित करने के लिये लागू की गई योजनाओं की चर्चा करते हुये कहा कि युवा अपना खुद का काम शुरू कर सकते हैं। सरकार उन्हें हरसंभव मदद देगी। उन्होंने कहा कि रोजगार और कौशल विकास पर ध्यान दिया जा रहा है। महिला सशक्तीकरण सर्वोच्च प्राथमिकता है। श्री चौहान ने ऐसे युवाओं का सम्मान किया जो अत्यंत पिछड़े क्षेत्र से आते हैं और जीवन के विभिन्न क्षेत्रों में जिन्होंने ऊँचा मुकाम हासिल किया है।

Some Useful Important Links

DOWNLOAD NOTIFICATION