Latest News Details

जुलाई से अक्टूबर तक होंगी जनजातीय विद्यालयों की खेल प्रतियोगिताएँ

सहायक आयुक्तों को दिये गये आवश्यक व्यवस्थाएँ सुनिश्चित करने के निर्देश

Post Name : जनजातीय विभाग के विद्यालयों का वार्षिक खेल कैलेण्डर जारी

Short Details of Notification

जुलाई से अक्टूबर तक होंगी जनजातीय विद्यालयों की खेल प्रतियोगिताएँ
सहायक आयुक्तों को दिये गये आवश्यक व्यवस्थाएँ सुनिश्चित करने के निर्देश 
जनजातीय विभाग के विद्यालयों का वार्षिक खेल कैलेण्डर जारी
 
जनजातीय कार्य विभाग ने विभागीय राज्य-स्तरीय खेल कैलेण्डर वर्ष 2018-19 जारी कर दिया है। आयुक्त जनजातीय कार्य श्रीमती दीपाली रस्तोगी ने इस संबंध में सभी व्यवस्थाएँ सुनिश्चित करने के लिये सहायक आयुक्तों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिये हैं।

जनजाति कार्य विभाग द्वारा जारी खेल कैलण्डर अनुसार माह जुलाई से अक्टूबर तक विभिन्न खेल प्रतियोगिताएँ होंगी। इनमें सुब्रोतो फुटबाल, नेहरू हॉकी, तलवार बाजी, कैरम, शतरंज, टेबल टेनिस, जिमनास्टिक, ताईक्वांडो, रोप स्कीपिंग, योग ओलिम्पयाड, बॉक्सिंग, कुश्ती फ्रीस्टाइल, कराटे, राईफिल शूटिंग, साफ्टबाल, स्काईमार्शल आर्ट, डॉजबाल, जुडो, बेडमिंटन, खो-खो, टेनिस बालीवॉल बेसबॉल, साफ्ट टेनिस , थ्रो बॉल, फील्ड आर्चरी, साईकिल, क्रिकेट, नेटबॉल, हेण्डबॉल, कबड्डी, लॉन टेनिस, लगोरी और एथेलेटिक्स खेल प्रतियोगिताएँ शामिल हैं।

विभागीय क्रीड़ा प्रतियोगिताओं में विभाग द्वारा संचालित विद्यालय/संस्थाओं के छात्र-छात्राएँ ही भाग लेंगे। अशासकीय विद्यालयों के विद्यार्थियों को इनमें शामिल नहीं किया जायेगा। क्रीड़ा प्रतियोगिताओं में शामिल होने वाले सभी खिलाड़ियों के पात्रता प्रमाण-पत्र 5 मूल प्रतियों में प्रस्तुत करना होंगे। निर्धारित पात्रता प्रमाण-पत्र के साथ बोर्ड परीक्षा की अंक-सूची एवं आधार-कार्ड की सत्यापित छायाप्रति संलग्न कर खिलाड़ियों को संस्था के प्रमाण-पत्र के साथ रखने के निर्देश दिये गये हैं।

समस्त सहायक आयुक्तों से कहा गया है कि खेल प्रतियोगिताएँ अपने मार्गदर्शन में करवायें और नियमों का कड़ाई से पालन करें। प्रतियोगिताओं के लिये आयोजन-स्थल पर आवश्यक मूलभूत सुविधाएँ उपलब्ध करवायें। प्रतियोगिता के पहले क्रीड़ा प्रभारी को अग्रिम राशि भी उपलब्ध करवाने के लिये कहा गया है। प्रतियोगिता एवं कोचिंग कैम्प के फोटोग्राफ्स ई-मेल द्वारा एवं हार्ड कॉपी में मुख्यालय को भेजें। सभी प्रतियोगिताओं के दौरान जिला क्रीड़ा प्रभारी प्रतियोगिता स्थल पर मुख्यालय बनाकर अनिवार्य रूप से उपस्थित रहें।

मध्यप्रदेश शालेय राज्य शिक्षा प्रतियोगिता में विभागीय दल के जनरल मैनेजर को प्री-नेशनल कैम्प में चयनित खिलाड़ियों की खेल, विधा एवं आयु की समूहवार सूची विभाग के राज्य क्रीड़ा अधिकारी एवं संबंधित जिले के क्रीड़ा प्रभारी को भेजने के निर्देश दिये गये हैं। जनरल मैनेजर शालेय राज्य स्पर्धा में दल/व्यक्तिगत खेलों में विजेता/उप विजेता, प्रथम, द्वितीय और तृतीय की जानकारी मुख्यालय भोपाल को भेजेंगे। छात्राओं के दल के साथ महिला व्यायाम शिक्षक/महिला कर्मचारी को भेजा जाना अनिवार्य किया गया है। यात्रा के दौरान छात्र-छात्राओं की सुरक्षा की जिम्मेदारी संबंधित दल के प्रबंधक, कोच, व्यायाम शिक्षक एवं मैनेजर की होगी।

एसजीएफआई द्वारा जारी खेल कैलेण्डर के अनुसार ऐसी खेल विधाएँ, जो खेल कैलेण्डर में प्रदर्शित नहीं है, उन्हें जिला मुख्यालय से अनुमति लेकर सीधे शालेय राज्य-स्तरीय प्रतियोगिता में जिला क्रीड़ा मद से शामिल करवाया जा सकता है। विद्यालयों में योग एवं मार्शल ऑर्ट की प्रतियोगिताओं में छात्र-छात्राओं की सहभागिता सुनिश्चित करने के लिये भी कहा गया है। खिलाड़ियों को प्रतियोगिता के दौरान निर्धारित क्षेत्रों के कलर एवं क्षेत्र के आधार पर गुणवत्तापूर्ण खेल गणवेश दिये जायेंगे। गणवेश पर क्षेत्र/विभाग का नाम अंकित होगा।

खेल गणवेश का भी निर्धारण कर दिया गया है। मध्य क्षेत्र-हरा, पूर्व क्षेत्र-नीला, पश्चिम क्षेत्र-पीला, दक्षिण क्षेत्र-लाल, शालेय राज्य के लिये लाल रंग की टी-शर्ट, काले रंग की हॉफ पेंट, सफेद रंग का जूता-मोजा निर्धारित किया गया है। क्रिकेट खिलाड़ियों के लिये सफेद हॉफ टी-शर्ट एवं सफेद लोअर अथवा फुल पेंट देने को कहा गया है।

संभागीय उपायुक्त इंदौर, जबलपुर, शहडोल, होशंगाबाद को उनके कार्य क्षेत्र अंतर्गत खेलों के लिये जिलों के खेल प्रभारियों की बैठक आयोजित कर क्षेत्रीय खेल कैलेण्डर तैयार कर ई-मेल एवं हार्ड कॉपी में मुख्यालय भेजने को भी कहा गया है।

Some Useful Important Links

DOWNLOAD NOTIFICATION